मीडिया सेंटर मीडिया सेंटर

डीडी न्यूज कॉन्क्लेव फिनाले में विदेश मंत्री के साक्षात्कार की प्रतिलिपि (अक्टूबर 07, 2021)

अक्तूबर 08, 2021

हर्षवर्धन पंत: नमस्कार और दूरदर्शन डीडी कॉन्क्लेव में आपका स्वागत है, यह एक श्रृंखला जो पिछले कुछ वर्षों में भारत के उदय और इसके अभूतपूर्व परिवर्तन के प्रमुख विषयों की पड़ताल करती है, जैसा कि हम अपनी स्वतंत्रता के 75 वें वर्ष में प्रवेश कर रहे हैं। एक श्रृंखला जो 'आज़ादी का अमृत महोत्सव' मना रही है। डीडी कॉन्क्लेव के इस विशेष संस्करण में, आज हम भारत की विदेश नीति की यात्रा को करीब से देखते हैं, एक यात्रा जिसे प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी और विदेश मंत्री डॉ. एस. जयशंकर के गतिशील नेतृत्व में अभूतपूर्व गति मिली है। हमने पिछले कुछ वर्षों में भारत को विश्व स्तर पर नई ऊँचाइयों को छूते हुए देखा है, जिससे दुनिया को यह स्पष्ट हो गया है कि जहाँ तक भारत का संबंध है, वह अब हाशिये पर बैठने को तैयार नहीं है। आज का भारत एक महत्वकांक्षी देश है। यह केवल नियम पालन करने वाला नहीं, बल्कि नियम बनाने वाला बनना चाहता है। यह एजेंडा सेट करना चाहता है और यह सुनिश्चित करना चाहता है कि दुनिया भर में जो एजेंडा वह तलाश रहा है, उसे लागू भी किया जाए। अतीत का आत्म-संशय अब जा चुका है।

भारत के कदमों में एक नया वसंत आ रहा है और भारत के राष्ट्रीय हितों का एक और अधिक आत्मविश्वास से भरा दावा आने वाला है।विश्व लंबे समय से चाहता था कि भारत वैश्विक मंच पर और अधिक सक्रिय हो, और आज का भारत आगे आने को तैयार है, यह उन समस्याओं को उठाने के लिए तैयार है जिन पर पिछले कई दशकों से विचार ही नहीं किया गया है। एक ऐसे नेतृत्व के मार्गदर्शन में, जो निर्णायक कार्रवाई करने से नहीं डरता, भारत आज उन चुनौतियों का सामना करने के लिए तैयार है जो सीमाओं के पार हैं, बल्कि वह वैश्विक सार्वजनिक वस्तुओं के प्रावधान के लिए समान विचारधारा वाले देशों के साथ साझेदारी करने के लिए भी तैयार हैं, जिनकी बहुत आवश्यकता है। और इसका पिछले डेढ़ साल में भारत के नीतिगत दृष्टिकोण से बेहतर उदाहरण कोई और नहीं है। कोविड-19 की चुनौती से जूझ रही दुनिया के संघर्ष के रूप में, भारत न केवल आंतरिक रूप से, बल्कि विश्व स्तर पर भी संकट से जूझने में लगा हुआ है, क्योंकि इसने अन्य देशों के साथ अपनी सर्वोत्तम क्षमताओं सहित मदद करने का प्रयास किया, खासकर ऐसे समय में जब दुनिया के अधिकांश हिस्से, और विशेष रूप से सबसे अमीर और सबसे शक्तिशाली लोग सिर्फ अपनी ही चिंता कर रहे थे।

जैसे-जैसे दुनिया और अधिक खण्डों में विभाजित होती जाती है, चारों ओर चुनौतियाँ होती हैं, लेकिन भारतीय नेतृत्व उन चुनौतियों को नए भारत और भारतीयों के लिए अवसरों में बदलने का इरादा रखती है। और भारत की विदेश नीति यात्रा, वैश्विक पदानुक्रम में इसके उदय, इसकी महत्वाकांक्षाओं और भारतीय कूटनीति हमारे समय के कुछ सबसे महत्वपूर्ण मुद्दों को कैसे उठा रही है, इसके बारे में बात करने के लिए भारत के शीर्ष राजनयिक स्वयं डॉ एस जयशंकर से बेहतर कौन हो सकता है। इस बातचीत के पहले भाग के रूप में इस खोजपूर्ण यात्रा के लिए आज हमारे साथ उनका होना हमारे लिए सौभाग्य की बात है,जो कुछ ऐसा है जिसे मैं अगले आधे घंटे में डॉ जयशंकर के साथ बात करते हुए तलाश करूँगा, उसके बाद, बातचीत के दूसरे भाग में, हम इन मुद्दों पर अधिक विस्तार से चर्चा करने के लिए विदेश नीति पर भारत के कुछ बेहतरीन विचारकों को लाएँगे। लेकिन पहले, मैं आपका औपचारिक रूप से स्वागत करता हूँ,महोदय। और आपका इस मंच पर आना सौभाग्य की बात है।

विदेश मंत्री, डॉ. एस. जयशंकर: धन्यवाद। यह मेरा सौभाग्य है।

हर्षवर्धन पंत: इससे पहले कि हम इनमें से कुछ सवालों की बारीकियों में जाएँ, जिन्हें मैं और दर्शकों के कुछ सदस्य पूछना चाहेंगे। मैं समझता हूँ कि यह एक महत्‍वपूर्ण बिंदू है कि हम भारतीय स्‍वतंत्रता के 75 वर्ष की चर्चा कर रहे हैं। और जब आप पीछे मुड़कर देखते हैं, तोदेश के इतिहास में 75 साल लंबा समय नहीं है, खासकर तब जब आप भारत जैसे देश के बारे में बात करते हैं,जो सदियों से एक सभ्यतागत राज्य रहा है। लेकिन निश्चित रूप से यह समय आपको एक कदम पीछे हटने और पिछले सात दशकों में हमने जो महत्वपूर्ण यात्रा की है अपनी उस यात्रा पर विचार करने और निशानदेही करने का मौका देता है।आप इस यात्रा पर कैसे विचार करते हैं, खासकर जब भारतीय विदेश नीति की बात आती है और भारत आज अंतर्राष्ट्रीय मंच पर वास्तविक परिवर्तन करने के कगार पर खुद को एक परिवर्तनकारी देश के रूप में कैसे देखता है?

विदेश मंत्री, डॉ. एस. जयशंकर: मुझे लगता है कि चर्चा के लिए यह वास्तव में एक अच्छा प्रारंभिक बिंदु है, क्योंकि मैं आपसे सहमत हूँ कि 75 वर्ष एक छोटी अवधि है। और साथ ही, कई मायनों में, वास्तव में, 75 वर्ष केवल एक अवधि है जिसकी गणना हम एक आधुनिक राष्ट्र के रूप में हमारे वर्तमान अवतार के लिए करते हैं। लेकिन आइए इन 75 वर्षों को भी देखें। एक, मुझे लगता है कि हम सभी को इस बात की सराहना करने की जरूरत है कि इन 75 वर्षों में हमारी क्षमताएँ कितनी बदल गई हैं। यह कि आज, हम सैधांतिक अर्थों में, पाँचवीं या छठी,पीपीपी के संदर्भ में, तीसरी सबसे बड़ी अर्थव्यवस्था हैं। यह कि हमारा राजनीतिक प्रभाव, कई तरह से योगदान करने की हमारी क्षमता को देखें। मेरा मतलब है, हम इसे आज कोविड की प्रतिक्रिया में टीकों के संदर्भ में देख रहे हैं। लेकिन मानवीय सहायता या आपदा प्रतिक्रिया के मामले में भी, नेपाल में, यमन में, अफ्रीका और श्रीलंका में, हम पहले प्रत्युत्तरकर्ता के रूप में बहुत कुछ देख रहे हैं।कनेक्टिविटी के संदर्भ में, बाहर की परियोजनाओं के संदर्भ में, वैश्विक बहस पर हम जो प्रभाव डालते हैं, उसके संदर्भ में। इसलिए, मैं कहूँगा कि एक बड़ा बदलाव, जो मैंने देखा है, मेरा मतलब है, मैंने इस बदलाव को अपने करियर के दौरान देखा है, वह, उन 75 वर्षों के आधे से थोड़ा अधिक है। लेकिन हमारे पास जो क्षमता वृद्धि है, वह वाकई कुछ है, हम सभी को इसके साथ आने की जरूरत है।

दूसरी चीज मैं कहूँगा कि विश्वसनीयता है, और विश्वसनीयता का तर्क यह है कि 1960 के दशक में, बुनियादी सवाल थे जो दुनिया के लोग, और मैं आपकी बात स्वीकार करता हूँ कि उनका एक एजेंडा था, वे भारत के बारे में पूछ रहे थे। हमारे बारे में 'इंडिया, द मोस्ट डेंजरस टिकट' नाम से एक बहुत प्रसिद्ध धारणा थी, लोगों को यकीन नहीं था कि हम एक व्यवस्था के रूप में, एक राजव्यवस्था के रूप में कैसे जीवित रहेंगे। आज आपके पास ऐसा प्रधानमंत्री हैं, जो संयुक्त राष्ट्र में जाता है और लोगों को याद दिलाता है कि हम लोकतंत्र की जननी हैं।कि जब प्रधान मंत्री मोदी कहते हैं कि "लोकतंत्र सुशासन कर सकता है, लोकतंत्र ने सुशासन दिया है", वे वास्तव में आज एक रैली बिंदु हैं और हम भारत में दुनिया भर के लोकतंत्रों के लिए एक रैली बिंदु हैं।और यह आपको हमारी विश्वसनीयता के बारे में बहुत कुछ बताता है। तीसरा, निश्चित रूप से, संदर्भ है, और संदर्भ यह है कि आप जानते हैं, इन 75 वर्षों में जो वास्तव में द्वितीय विश्व युद्ध के बाद के हैं, आप कह सकते हैं कि पुनर्संतुलन की घटना हुई है जो कि बहुत से देशों में हुई, एक दूसरे के सापेक्ष उनका वजन बदल गया है। कुल मिलाकर एशिया ने सामूहिक रूप से अधिक प्रमुखता, अधिक वजन प्राप्त किया है। एशिया के भीतर, स्पष्ट रूप से चीन और भारत इसका गठन करते हैं और आसियान इसका एक बड़ा हिस्सा बनाता है।उसमें से भी कुछ उभरता है जिसे बहुध्रुवीयता कहा जाता है, जो कि सापेक्ष वजन बदलना है, लेकिन उनमें से कुछ में पहले से ही अंतर्राष्ट्रीय व्यवस्था के ध्रुव बनने की क्षमता है या बनने की अधिक संभावना है। इसलिए, क्षमता बदल गई है विश्वसनीयता बढ़ी है, संदर्भ बदल गया है। तो कई मायनों में, मैं यह कहूँगा कि हम वास्तव में एक बहुत, बहुत ही अलग दुनिया में प्रवेश कर चुके हैं।

हर्षवर्धन पंत: और जब आप विशेष रूप से इन पहलुओं की बात करते हैं, तो यदि हम पिछले कुछ वर्षों में देखें, तो हमने भारतीय कूटनीति में अविश्वसनीय सीमा में गतिशीलता देखी है। हमारे पास स्वयं प्रधान मंत्री और आप सहित शीर्ष नेतृत्व हैं, जो दुनिया के उन हिस्सों को शामिल करने के मामले में आगे बढ़ रहे हैं जहाँ हमने लंबे समय तक यात्रा नहीं की थी, जहाँ शीर्ष नेतृत्व जुड़ा नहीं था। और इसने शायद भारतीय कूटनीति को, जैसा कि आप कहते हैं, उन मुद्दों पर इसकी पहुँच के संदर्भ में अधिक विश्वसनीयता दी है, जिनके बारे में आप शायद बात नहीं कर रहे थे। तो आप इस संदर्भ को उन लोगों को कैसे समझाएँगे जो अभी भी यह तर्क देंगे कि देश के भीतर पर्याप्त चुनौतियाँ हैं, हमें वास्तव में इस बारे में चिंतित नहीं होना चाहिए कि वैश्विक स्तर पर क्या होता है, वैश्विक उलझाव एक ऐसी चीज है जिससे भारत को दूर रहना चाहिए?

विदेश मंत्री, डॉ. एस. जयशंकर:
देखिए, हम एक वैश्वीकृत दुनिया में रहते हैं। अगर कोई इस बात को नहीं समझता है, तो निश्चित रूप से कोविडने उन्हें शिक्षित किया होगा। क्योंकि देखिए, कुछ चीजें किसी दूसरे देश में शुरू हुईं। ठीक । इसने हमारे जीवन को तबाह कर दिया है। तो यह विचार कि हमें घर पर ध्यान केंद्रित करना चाहिए न कि विदेशों की और देखना चाहिए, जैसे कि हमारे और दुनिया के बीच किसी प्रकार का फ़ायरवॉल है, मुझे लगता है कि हमें इस तरह के कालभ्रमित विचारों को पीछे छोड़ देने की आवश्यकता है।यह वह दुनिया नहीं है जिसमें हम अब रहते हैं। वंदे भारत मिशन के दौरान इसके बारे में सोचें क्योंकि कोविडके कारण विदेशों में फंसेलोग वापस आना चाहते थे।हम 7 मिलियन लोगों को वापस लाए, जिसका मतलब था कि हमारे 7 मिलियन नागरिक, हमारे देशवासी, विदेश में रह रहे थे, और वैसे, उनमें से कई वापस आ गए। वैसे वास्तविक संख्या बहुत अधिक है। तो आज हमारे लिए दुनिया एक बाजार है, दुनिया एक कार्यस्थल है। लोग विदेश यात्रा करते हैं। देखिए,मैं कभी इस बात पर शायद बहस करूँगा, विदेश में हमारे साढ़े सात लाख छात्रों के बारे में क्या कहेंगे। विदेशों में हमारे लगभग 300,000 नाविक हैं। तो यह विचार किहम विदेश में क्या कर सकते हैं या विदेश में क्या नहीं कर सकते हैं, मुझे लगता है कि यह विकल्प नहीं है। हम दुनिया से जुड़े हुए हैं, एक निर्बाध सीमाहीनता है, जो विदेश में होता है वह हमारे देश में भी आएगा। तो हम भी इसकी आदत डाल सकते हैं, इसकी तैयारी कर सकते हैं, इसका लाभ उठा सकते हैं। और कई मायनों में, प्रधान मंत्री ने जो करने की कोशिश की है, वह वास्तव में भारत के वैश्वीकरण को और अधिक प्रभावी बनाने के लिए है, हमारे लोगों को पहले की तुलना में बहुत बेहतर शर्तों पर दुनिया के साथ जुड़ने के लिए तैयार करना है।

और अगर आप हमारे निकटतम पड़ोसियों को भी देखें, तो देखिए, हम सबसे बड़ी अर्थव्यवस्था हैं, हम सबसे बड़े देश हैं, हम सबसे बड़े समाज हैं, हमें संपर्क बनाने की जरूरत है, हमें यात्राएँ बढ़ाने की जरूरत है, हमें सहयोग बढ़ाने की जरूरत है, हमें व्यापार बढाने की जरूरत है।इसलिए मैं इसे विरोधाभास के रूप में बिल्कुल नहीं देखता। वास्तव में, मैं कहूँगा कि जितना अधिक आप भारत में करेंगे, उतना ही आपको दुनिया के साथ व्यवहार करना होगा, और जितना अधिक आप दुनिया के साथ व्यवहार करेंगे, उतना ही अधिक यह किसी न किसी रूप में हमारे जीवन में वापस आएगा। और यह चीजें बड़ी और छोटी चीजें हो सकती हैं, यह आयात हो सकता है । आज भारत में खाना पकाने के तेल की कीमत इस पर निर्भर करती है कि विदेशों में क्या हो रहा है। फोनों की गुणवत्ता, जिसकाउपयोग युवा लोग करेंगे, विदेशों में क्या होता है, इस पर निर्भर करती है। तो, विदेशों में जो कुछ होता है, उससे हमारा जीवन लाखों प्रकार से प्रभावित होता है।मेरा मतलब है, कोविडएक चरम उदाहरण है जो मैंने आपको दिया है। इसलिए मुझे लगता है कि हमें आज विदेश नीति को आंतरिक बनाने की जरूरत है, यह समझना चाहिए कि यह हर व्यक्ति के रोजमर्रा के जीवन को प्रभावित करती है और इस सोच से बाहर आना चाहिए कि विदेश नीति तो विदेशी है और हमारे देश को प्रभावित नहीं करती है।विदेश नीति बस विदेशों में स्थित होती है। लेकिन यह हमारे दैनिक जीवन का बहुत बड़ा हिस्सा है, मेरा विश्वास करें।

हर्षवर्धन पंत:
और, कई विचारों में से एक,जिसे हमने आपके कुछ भाषणों और कुछ प्रधान मंत्री के भाषणों में भी दोहराया जाते देखा है, यह भावना है कि हम अपने विदेश संबंधों में अंततः जो कुछ भी कर रहे हैं वह सीधे देशकी विकासात्मक प्राथमिकताओं से जुड़ा हुआ है। और यह एक संदेश है जो युवाओं के साथ जुड़ता है, उस अर्थ में काफी शानदार रहा है, मुझे लगता है कि हम विदेश नीति में एक जबरदस्त युवा भागीदारी देखते हैं, लेकिन महोदय इस से संबंधित एक बदलाव है जो वैश्विक स्तर पर हो रहा है और भारत उस का हिस्सा है।

इसलिए, जैसा कि भारत एक बड़े पदचिह्न की खोज करता है, हम आत्मनिर्भर भारत अभियान की भी बात कर रहे हैं और उस संदर्भ में, आप कैसे एक वैश्वीकरण भारत और एक ऐसे भारत, जो अपने देश में आत्मनिर्भर होना चाहता है, के बीच तालमेल पर कुछ प्रकाश डालेंगे?

विदेश मंत्री, डॉ. एस. जयशंकर: देखिए, अगर मैं आपके अवलोकन के पहले भाग पर विचार करूँ तो, किसी भी देश के लिए, कोई भी समाज जो विकसित होता है जो बदलता है, उसके लिए बहुत कुछ है जिसे आप बाहर से प्राप्त कर सकते हैं, ठीक है। आमतौर पर, जो देश तीव्र गति से बढ़ रहे हैं, उन्हें संसाधनों की आवश्यकता होती है, उन्हें पूँजी की आवश्यकता होती है, उन्हें प्रौद्योगिकी की आवश्यकता होती है, उन्हें अक्सर सर्वोत्तम प्रथाओं की आवश्यकता होती है। मेरा मतलब है, किसी ने कुछ बेहतर करने का एक तरीका निकाला है, आपउनसे इसे ले लें।मेरा मतलब है, आपको कार्य को दोहराने की आवश्यकता नहीं है।इसलिए, यदि आप 150 साल पहले जापान से शुरू होने वाले एशिया में हुए बदलावों को देखें, तो सर्वोत्तम प्रथाओं पर प्रौद्योगिकी पर पूँजी पर विदेशी भागीदारों के साथ काम करने का यह विचार एक बहुत ही सामान्य बात है।मेरा मतलब है, जापान ने किया, कोरिया ने किया, चीन ने किया, आसियान ने किया। आज हम कर रहे हैं। और ऐसा करने के लिए केवल एक कारखाना होने या इसे करने के लिए एक उत्पाद होना आवश्यक नहीं है।मेरा मतलब है, हम अक्सर अपने राष्ट्रीय अभियानों में भी कहते हैं, उदाहरण के लिए मैंने नमामि गंगे में नदी की सफाई में यूरोपीय देशों के पास बहुत अनुभव देखा है।हम आज हरित प्रौद्योगिकियों पर ध्यान दे रहे हैं, ऐसी प्रौद्योगिकियाँ जो प्रदूषण में कटौती करेंगी या अपशिष्ट प्रबंधन से निपटेंगी।फिर, ऐसे देश हैं जिनके पास यह प्रोद्योगिकियाँ है इसलिए विदेशों के देशों के साथ काम करने से बहुत लाभ होता है..अब यह आत्मनिर्भर भारत के साथ कैसे जुड़ता है? मुझे लगता है, आत्मनिर्भर भारत के मामले में, मैं आपको समझाता हूँ कि यह क्या है और क्या नहीं है। यह संरक्षणवाद नहीं है। यह अधिक क्षमताओं के निर्माण के बारे में है, दुनिया में एक बड़ी भूमिका निभाने के लिए अधिक क्षमताओं का निर्माण करना है क्योंकि आपके पास दुनिया में कम क्षमता या बिना क्षमता वाली भूमिका नहीं हो सकती है।

अब, हमें अभी आत्मनिर्भर प्रयास की आवश्यकता क्यों है? मोटे तौर पर, यदि हम स्वयं के प्रति ईमानदार हैं,क्योंकि हम मानते हैं कि पिछले 25 वर्षों में, भले ही हम बढ़े हैं, हमारी अर्थव्यवस्था बढ़ी है, हमारा देश विकसित हुआ है, हमारी कई क्षमताएँ समानांतर रूप में नहीं बढ़ी हैं, गहरी ताकतें जो कि चीन के पास है, या जापान के पास है, या कोरिया के पास उनमें से कई गहरी ताकतें हैं, वे भारत में नहीं बनाई गई हैं, खासकर विनिर्माण क्षेत्र में, और न केवल विनिर्माण पक्ष पर, और इसके कई कारण हैं, मुझे लगता है कि लोग वैश्वीकरण मंत्र के लिए तैयार नहीं हैं, जहाँ हमने अपने बाजार खोले और प्रौद्योगिकी को अवशोषित करने और सर्वोत्तम प्रथाओं को अवशोषित करने के बजाय, हम बस एक ऐसा बाजार बन गए जहाँ लोग लाभ कमाने पर संतुष्ट थे और मध्यम अवधि के बारे में नहीं सोचते थे, लंबी अवधि को तो छोड़ ही दें। प्रधान मंत्री मोदी के नेतृत्व में यह बदल गया है। आत्मानिर्भर भारत का विचार वास्तव में आज दुनिया के साथ काम करने, भारत में क्षमताओं का निर्माण करने, दुनिया में योगदान करने का है। और मैं आपको इसका एक बहुत, बहुत अच्छा उदाहरण देता हूँ। टीके को ही लें। हमारे पास आज टीकों के क्षेत्र मेंएक टीका है, जो वर्तमान में एक प्रमुख टीका है, जो एक अंतर्राष्ट्रीय सहयोग का उत्पाद है, लेकिन हमारे पास एक और टीका है, जिसे आप कह सकते हैं कि भारत में आविष्कार किया गया टीका है, हम दूसरों के सहयोग से कुछ और बनाने जा रहे हैंऔर निर्यात कर रहे हैं।लेकिन हम खुद इसका इस्तेमाल नहीं करेंगे। हम एक डीएनए वैक्सीन बना रहे हैं, हम अपनी खुद की एमआरएनए वैक्सीन नाक का टीका बना रहे हैं। अब, यह एक बहुत अच्छा उदाहरण है, हम विदेशी भागीदारों के साथ काम कर रहे हैं, उनसे मदद मिली है।इसने देश में ही रचनात्मकता को प्रेरित किया है; हम स्वयं अपने उत्पादों को विकसित करने के बारे में अधिक उत्साहित हैं। हमने इसे अपने देश के बाजारों के लिए इस्तेमाल किया है, हमने इसे विदेशों में बाजारों के लिए इस्तेमाल किया है, हमने अपनी प्रतिष्ठा बनाई है। तो अब अलग-अलग तरीकों से, इसे अलग-अलग क्षेत्रों में इस्तेमाल किया जाता है। हमारे पास उत्पादन सम्बद्ध प्रोत्साहन नामक एक पहल है, जिसने वास्तव में 13 अलग-अलग क्षेत्रों में विनिर्माण को बढ़ावा दिया है।यह एक कार्यक्रम है, जो पिछले साल शुरू हुआ है, और इस साल इसने वास्तव में गति पकड़ी है।तो हम कहते हैं, मेक इन इंडिया, लेकिन याद रखना, प्रधानमंत्री हमेशा कहते हैं, मेक इन इंडिया लेकिन मेक फॉर द वर्ल्ड।तो विचार तो दुनिया में एक बड़ी भूमिका निभाने का है। लेकिन ऐसा करने के लिए हमें सिर्फ एक बाजार बनने से ज्यादा कुछ अधिक होने के लिए लायक बनना है। मुझे नहीं लगता कि भारत की यह महत्वाकांक्षा और सपने, अन्य लोगों के लिए एक बाजार बनने तक सीमित हैं। मुझे लगता है कि हमें बड़ा सोचने की जरूरत है। मुझे पता है कि हम बड़ा सोच रहे हैं, निश्चित रूप से युवा बड़ा सोच रहे हैं। मैं आपको विश्वास दिलाता हूँ, प्रधानमंत्री बड़ा सोच रहे हैं और सरकार बड़ा सोच रही है।

हर्षवर्धन पंत: कुछ द्विपक्षीय और बहुपक्षीय संबंधों पर कुछ प्रश्नों पर आ सकते हैं। हम प्रधान मंत्री द्वारा अमेरिका की एक बहुत ही सफल यात्रा, क्वाड शिखर सम्मेलन और निश्चित रूप से, संयुक्त राष्ट्र में उनके संबोधन की ऊँचाइयों से अभी लौटे हैं।और जब आप भारत-अमरीका जुड़ाव की प्रकृति को देखते हैं, उदाहरण के लिए, इंडो-पैसिफिक पर, जब आप उस तरह के परिवर्तनकारी बदलाव को देखते हैं जो पिछले कुछ वर्षों में आया है, भारत-अमेरिका द्विपक्षीय साझेदारी, लेकिन अब इंडो-पैसिफिक डोमेन में और इंडो-पैसिफिक डोमेन में बड़े रुझानों में भी तेजी से अंतर्निहित है।आप भारत के शीर्ष राजनयिक के रूप में जिस बहुपक्षीय व्यवस्था का हम सामना कर रहे हैं, उसके मिजाज के साथ-साथ स्वतंत्र और खुले इंडो पैसिफिक की अवधारणा का आकलन कैसे करते हैं?

विदेश मंत्री, डॉ. एस. जयशंकर:
देखिए, हिंद-प्रशांत, हमारे दृष्टिकोण से, एक ऐसे भारत का विकास है जिसने पूर्व की ओर अधिक से अधिक रुचि विकसित की है। एक तरह से, आप कह सकते हैं कि यह विशेष कहानी 25 साल पहले शुरू हुई थी, लेकिन हमारे देश में कई अन्य चीजों की तरह यह अपेक्षाकृत धीमी गति से आगे बढ़ रही थी।मुझे लगता है कि गति तेज हो गई है, क्षेत्र बढ़ गए हैं। तो हमारे व्यवसाय में जो शुरू हुआ, हम उसे लुक ईस्ट पॉलिसी के रूप में जानते हैं, लुक ईस्ट से एक्ट ईस्ट में बदलाव इसलिए था क्योंकि कनेक्टिविटी का एक अधिक बड़ा तत्व था, हमने सुरक्षा पर चर्चा करना शुरू किया, हमने वहाँ कई और परियोजनाएँ शुरू कीं। यह आसियान से आगे निकल गया।यदि आप आज हमारे विदेशी संबंधों को देखें, तो हमारा 50% से अधिक विदेशी व्यापार वास्तव में भारत के पूर्व में है। और यदि आपका विदेश व्यापार भारत के पूर्व में है, तो जाहिर है कि आपके बहुत से समुद्री हित भी भारत के पूर्व में हैं। हमारे कई प्रमुख साझेदार हिंद महासागर से परे स्थित हैं, ऑस्ट्रेलिया, चीन, जापान, कोरिया, संयुक्त राज्य अमेरिका के पश्चिमी तट, बल्कि मैं कहूँगा दक्षिण अमेरिका के कुछ हिस्से भी। तो हम उस क्षेत्र में बहुत अधिक आगे हैं। और फिर, जैसा कि मैंने कहा, संदर्भ महत्वपूर्ण है, दुनिया भी बदल गई है। तो इनके बीच पुराने समय के अंतर के हिसाब से तो यह हिंद महासागर है और वह प्रशांत महासागर है और इनसे अलग अलग निपटना है, मुझे लगता है कि वह समय पीछे रह गया है। प्रत्येक प्रमुख देश वास्तव में दोनों महासागरों को बहुत निर्बाधता से पार करता है। और इसे हमें मानसिक और मनोवैज्ञानिक रूप से ध्यान में रखना होगा।हमारे हित हैं, जो हिंद महासागर से परे फैले हुए हैं, औरवास्तव में इंडो पैसिफिक की अवधारणा इसी तरह आई।और वैसे हम 75 साल की चर्चा कर रहे हैं, लेकिन हम तो बहुत पुरानी सभ्यता हैं, इसका बहुत कुछ हमारे इतिहास का हिस्सा है। मेरा मतलब है, यदि आप भारतीय पदचिह्न को देखते हैं जो वास्तव में चीन के पूर्वी तट तक फैला हुआ है।यह निश्चित रूप से आसियान के बाहरी किनारों पर बहुत मजबूत था।इसलिए मैं कई तरीकों से तर्क दूँगा कि हम वहाँ अधिक सक्रिय होकर इतिहास को पुनः प्राप्त कर रहे हैं।अब,जब हम वहाँ सक्रिय हैं, तो स्वाभाविक क्या है? स्वाभाविक यह है कि ऐसे साथी ढूँढना जिनके हित समान हों। इस मामले में, संयुक्त राज्य अमेरिका एक उदहारण है, तो जापान, ऑस्ट्रेलिया, दो अन्य उदाहरण हैं ।मैं तो कहूँगा कि अभी और भी भागीदार हैं। इसलिए इंडो पैसिफिक की अवधारणा अटक गई है।क्वाड जैसे प्लेटफॉर्म का आइडिया विकसित हुआ है। यह इन चार देशों के बीच हितों के समकालीन अभिसरण को दर्शाता है।लेकिन वहाँ हमारे कई अन्य संबंध हैं, इंडोनेशिया एक अच्छा उदाहरण है, वियतनाम एक और उदाहरण है। हम आसियान संरचनाओं, पूर्वी एशिया शिखर सम्मेलन, आसियान क्षेत्रीय मंच आदि में बहुत गहराई से जुड़े हुए हैं।

तो इन 75 वर्षों में एक बदलाव यह है कि भारत वास्तव में कितना अधिक एशियाई, इंडो-पैसिफिक हो गया है, हम कितना कम करके देख रहे हैं,मैं तो कहूँगा सचमुच में हमारा सर्वश्रेष्ठ है।मेरा मतलब है, मैं उन्हें कम नहीं कर रहा हूँ। मुझे लगता है कि बहुत महत्वपूर्ण रिश्ते हैं। वास्तव में, प्रधान मंत्री मोदी के तहत, हमने वहाँ पर भी बहुत समय दिया है। लेकिन यहाँ एक बड़ा ऐतिहासिक बिंदु है, जो इंडो पैसिफिक से आगे निकल जाता है।आप जानते हैं, विभाजन ने क्या किया, इसने हमें छोटा सोचने पर मजबूर कर दिया, क्योंकि हम एक तरफ पाकिस्तान से अलग हुए थे, और दूसरी तरफ बांग्लादेश से, कहीं न कहीं, हम बेड़ियों में बंध गए थे, हमने खुद को कई तरह से बेड़ियों में जकड़ लिया।इसलिए हम विस्तारित पड़ोस के साथ अपने ऐतिहासिक संपर्कों का पुनर्निर्माण करने की भी कोशिश कर रहे हैं। पूर्व में यह आसियान है और फिर आगे इंडो पैसिफिक में, पश्चिम में, खाड़ी है, जहाँ उन संबंधों के निर्माण में और अफ्रीका में भारी मात्रा में ऊर्जा खर्च की गई है।और यह काम प्रगति पर है, यह वास्तव में विदेश नीति में बदलाव का एक बहुत बड़ा हिस्सा है जो आप देख रहे हैं।

हर्षवर्धन पंत: और महोदय, जब हम पूर्व की बात करते हैं, तो निश्चित रूप से, चीन के बारे में बड़ा प्रश्न है। और आपने हाल ही में और पिछले डेढ़ साल में बार-बार कहा है, चीन के साथ बातचीत करने का तरीका कैसे बदल रहा है, कि जब तक सीमा मुद्दे का समाधान नहीं होता है, तब तक अन्य मोर्चों पर चुनौतियाँ जारी रहेंगी जिसकी बीजिंग उम्मीद नहीं कर सकता, कि सामान्य संबंध की बात अलग है, लेकिन सीमा पर हालात अस्थिर बने हुए हैं। अब इसे छोड़ते हैं,आप जानते हैं, कि हम अभी सीमाओं के साथ चुनौती का सामना कर रहे हैं। इस संबंध के लिए आपका दीर्घकालिक दृष्टिकोण क्या है, अगले 75 वर्ष के लिए आप कैसे देखते हैं?

विदेश मंत्री, डॉ. एस. जयशंकर: वैसे यह महत्वाकांक्षी है, नहीं, लेकिन मैंने चीन के बारे में जो कुछ कहा है, उसके बारे में मैं स्पष्ट होना चाहता हूँ। मैंने वास्तव में कहा है कि हमारे संबंधों को विकसित करने का आधार, विशेष रूप से 1988 के बाद, सीमावर्ती क्षेत्रों में अमन और शांति रही है। यदि सीमावर्ती क्षेत्रों में शांति भंग होती है, जैसा कि वर्तमान में है, तो स्वाभाविक है कि हमारे संबंधों का विकास प्रभावित होगा। मैं इस बात की वकालत नहीं कर रहा हूँ कि हमें अपने सीमा विवाद को सुलझाना चाहिए। यह कहीं अधिक जटिल मुद्दा है। मुझे लगता है कि हमें सीमा विवाद समाधान और अमन और शांति बनाए रखने के बीच अंतर करना चाहिए, जो अधिक आसान और करने के लिए अधिक सामान्य ज्ञान की बात है। और यह वास्तव में, अमन और शांति ही है जिसकी गड़बड़ी ने वर्तमान स्थिति को जन्म दिया है। अब अगले 75 वर्ष के बारे में सोचने का कठिन काम, तो मैं कहूँगा कि देखिए, हम चीन और भारत दोनोंपुरानी सभ्यताएँ हैं, जो विश्व मंच पर फिर से प्रमुख हो रही हैं, चीन इस रास्ते में आगे है। वह बहुत बड़ी अर्थव्यवस्था है। उसमें स्पष्ट रूप से बहुत अधिक गहरी, व्यापक राष्ट्रीय शक्ति है, लेकिन मैं कहूँगा कि हम भी उस रास्ते पर आगे बढ़ रहे हैं और मुझे पूरा विश्वास है कि आने वाले दिनों में हमारी अपनी वृद्धि में तेजी आएगी।

अब, अगले 75 वर्षों में भारत और चीन दोनों ही दुनिया की प्रमुख शक्तियों में शामिल होंगे। और मेरे लिए यह जरूरी होगा कि उनके बीच आपसी सम्मान हो, कि वे एक-दूसरे को जगह दें।हम मानते हैं कि हम में से प्रत्येक के अपने हित हैं। तो, एक मायने में, मैं कहूँगा, मैंने पहले एक बहुध्रुवीय दुनिया के बारे में बात की है। यह बहुत महत्वपूर्ण है कि हमारे पास एक बहुध्रुवीय एशिया है। यदि आपके पास एक बहुध्रुवीय एशिया नहीं है तो आपके पास एक बहुध्रुवीय दुनिया नहीं होगी।तो भारत और चीन के बीच बहुत सारी गतिशीलता यह होगी कि वे एक-दूसरे को कितनी अच्छी तरह समझते हैं, वे एक-दूसरे का कितना सम्मान करते हैं, वे एक-दूसरे के प्रति कितने संवेदनशील हैं, जैसा कि मैंने कहा, क्या वे एक-दूसरे को पर्याप्त जगह देते हैं और इसे मानते हैं। कभी-कभी, आप जानते हैं, उनके अलग-अलग हित होंगे, और इसके साथ रहना सीखेंगे। पर यह कहना आसान है, जैसा कि हमने पाया है कि ऐसा हमेशा नहीं होता है। इसलिए मुझे लगता है कि यह प्रत्येक देश की विदेश नीति के लिए बड़ी चुनौतियों में से एक है। लेकिन यह कुछ ऐसा भी है जो विश्व और विश्व व्यवस्था के लिए बहुत महत्वपूर्ण है।

हर्षवर्धन पंत: और आपके बहुत सारे समय और निवेश के साथ-साथ मुझे लगता है कि प्रधानमंत्री ने खुद पड़ोस के मुद्दे में बहुत समय लगाया है। तो नेबरहुड फर्स्ट पॉलिसी है। और यदि आप पिछले कुछ वर्षों में पीछे मुड़कर देखें, तो आप इस नीति की सफलताओं को कैसे देखते हैं? क्या आप कनेक्टिविटी के संदर्भ में, या आर्थिक एकीकरण के संदर्भ में देखते हैं, कि एक आम सहमति बनी है जो आप जानते हैं, कि दक्षिण एशिया ने पिछले कुछ दशकों में उस संबंध में बहुत अच्छा नहीं किया है। क्या हम वहाँ कुछ परिवर्तन कर रहे हैं? क्‍या हम इस क्षेत्र में अपनी मजबूत भागीदारी के साथ उभरती कुछ नई वास्‍तविकताओं को देख रहे हैं?

विदेश मंत्री, डॉ. एस. जयशंकर: यदि आप मुझसे पूछें, अन्य क्षेत्रों के संबंध में, हम कितने एकीकृत हैं- मैं कहूँगा कि हाँ; हमें एक लंबा रास्ता तय करना है।लेकिन अगर आप मुझसे पूछें कि क्या आपने पिछले सात वर्षों में प्रगति की है, तो मैं

कहूँगा - हाँ, बहुत। मैं आपको एक बहुत ही स्पष्ट उदाहरण देता हूँ, यहस्पष्ट उदाहरण बांग्लादेश के साथ होगा। यह तथ्य कि हम एक समझौते के माध्यम से भूमि सीमा का निपटान करने में सक्षम हैं, यह तथ्य कि हम अपने समुद्री सीमा विवाद को हल करने में सक्षम थे।इसने जो किया है वह यह है कि इसने वास्तव में लोकाचार को बदल दिया है, वास्तव में रिश्ते की प्रकृति को बदल दिया है।इसलिए, हमने सबसे पहले 1965 से पूर्व के लिंक का पुनर्निर्माण शुरू किया, जिसने एक तरह से रेल लिंक, सड़क लिंक को तोड़ दिया था। आज महत्वाकांक्षाएं इससे कहीं आगे जाती हैं, अगर आप वास्तव में देखें कि भारत और बांग्लादेश के बीच विशुद्ध रूप से कनेक्टिविटी के मामले में क्या हो रहा है, यह वास्तव में परिवर्तनकारी है, हम बांग्लादेश को बिजली की आपूर्ति कर रहे हैं, एक पाइपलाइन के माध्यम से बांग्लादेश को ईंधन की आपूर्ति कर रहे हैं, अंतर्देशीय जलमार्ग हैं जो सक्रिय हो गए हैं, अगरतला से अखुआरा तक एक रेल लिंक है,जो बनाया जा रहा है, आज हमारा माल बांग्लादेशी बंदरगाहों से आता और जाता है, उदाहरण के लिए त्रिपुरा जैसे पूर्वोत्तर भारत के राज्य का हिस्सा अपने आयात और निर्यात के लिए एक बांग्लादेशी बंदरगाह का उपयोग करता है। तो, वास्तव में, बांग्लादेश के संबंध में नेबरहूड फर्स्ट ने जो किया है, उसने हमारे सभी पूर्वोत्तर राज्यों के अवसरों को पूरी तरह से बदल दिया है।

अब, अलग-अलग परिमाणों में देखें, हमने कई अन्य पड़ोसी देशों में प्रगति की है, मालदीव एक और उदाहरण है जहाँ हमारे पास बहुत सारी परियोजनाएँ हैं।वास्तव में, यदि आप वहाँजाने वाले पर्यटकों की संख्या को देखें, तो हम आज वहाँ जाने वाले पर्यटकों की सबसे बड़ी संख्या वाले देशों में से हैं। तो, यहमेरा पैमाना है, और फिर नेपाल, आज हमारे ऊर्जा लिंक को देखिए, हम नेपाल को बिजली के कितने बड़े प्रदाता बन गए हैं, हमारे पास यहाँ भी एक पाइपलाइन मोतिहारी अमलेखगंज है जो उन्हें ईंधन प्रदान करती है, इसने वास्तव में नेपाल में ईंधन की लागत को काफी हद तक कम कर दिया है। इसलिए, यदि आप लोगों की आवाजाही, व्यापार, और परियोजनाओं के व्यवसाय और निवेश, कनेक्टिविटी के मापदंडों का उपयोग करते हैं, तो रेल, सड़क, ऊर्जा को देखें, वास्तव में, आप देखेंगे कि बहुत कुछ जमीन पर हुआ है,मैं योजनाओं के बारे में बात नहीं कर रहा हूँ, मैं वास्तव में बात कर रहा हूँ कि वास्तव में क्या हुआ है और पहले से ही जमीन पर काम कर रहा है।निश्चित रूप से, भूटान के साथ हमेशा से एक बहुत अधिक प्रगतिशील कहानी रही है।यहाँ तक कि म्यांमार के साथ भी, वास्तव में, इनमें बहुत सी परियोजनाएँ और कनेक्टिविटी बढ़ी हैं; श्रीलंका के साथ भी। पाकिस्तान अपवाद रहा है। तो मैं कहूँगा, कुल मिलाकर, नीति अच्छी रही है। मुझे लगता है कि यह विश्वसनीय है, इसने कई तरह से काम किया है। लेकिन मैं कहूँगा, चुनौती की प्रकृति को देखते हुए, तथ्य यह है कि हमने इतने साल बनाने के लिए लगाए हैं, तथ्य यह है कि क्षमता इतनी बड़ी है, हाँ, हमें इसमें और अधिक प्रयास करना है, और अधिक ऊर्जाएँ डालनी हैं।और यह उन चीजों में से एक है जो हम कर रहे हैं।

हर्षवर्धन पंत: और डॉ. जयशंकर हम बातचीत के अंत में आ रहे हैं। मेरा एक सवाल है और दर्शकों ने आपसे कुछ सवाल पूछे हैं । लेकिन अपने एक भाषण में आपने उल्लेख किया था कि जब भारतीय विदेश नीति की बात आती है तो आपने दिल्ली की हठधर्मिता को त्यागने की आवश्यकता के बारे में बात की थी। इसलिए जैसा कि भारत वैश्विक पदानुक्रम में अपनी उठान जारी रखता है। और यदि आप पिछले कुछ वर्षों को देखें, विशेष रूप से, आपको क्या लगता है कि इनमें से कौन सी हठधर्मिता हम साझा करने में सक्षम हैं और जो अभी भी आपकी राय में साझा किया जाना बाकी है?

विदेश मंत्री, डॉ. एस. जयशंकर: देखिए, मुझे लगता है, हमने कुछ हठधर्मिता छोड़ दी है, मुझे लगता है कि एक से अधिक। मैं कहूँगा कि हमने जो स्पष्ट रूप से छोड़ा है वह एक हठधर्मिता है, परिणाम प्राप्त करने और हितों को आगे बढ़ाने के बजाय तर्क पर प्रीमियम की हठधर्मिता। हमने अक्सर दूसरों को अपने विकल्पों पर वीटो रखने की अनुमति दी है, क्योंकि हम कुछ प्रकार के तर्क में फंस गए हैं कि क्या सुरक्षित है, क्या सुरक्षित नहीं है, क्या हमें यह करना चाहिए।हमें वह करना चाहिए जो हमारे राष्ट्रीय हित में है।यह एक कारक होना चाहिए जिसे विकल्पों की बात करते समय हमें स्पष्टता देनी चाहिए। मुझे लगता है कि अन्य हठधर्मिता जिसे हमने छोड़ा है, वह यह किहमने वर्षों से धर्मशास्त्र की भीरूता को विकसित किया था, कि हमें ऐसा नहीं करना चाहिए?यह कैसे दिखता होगा? आज, हम एक आत्मविश्वास युक्त राष्ट्र हैं। हमारे पास एक राजनीति है, जो हमारी अपनी संस्कृति, हमारे अपने मूल्यों और हमारे अपने इतिहास में, हमारी परंपरा की गहरी जड़ों में है, हमारे पास एक व्यक्तित्व है, दुनिया को हमारे व्यक्तित्व को देखना चाहिए, दुनिया को हमारे विचार सुनने चाहिए, दुनिया को स्वयं यह पता होना चाहिए कि हम क्या हैं, न कि अन्य लोगों के लेंस के माध्यम से पता लगाएँ। हमें खुद को स्वीकार्य बनाने के लिए अन्य संस्कृतियों की नकल करने की कोशिश नहीं करनी चाहिए, हम वही हैं जो हम हैं, हमें इस पर गर्व होना चाहिए। और मुझे लगता है कि उनमें से बहुत सारे परिवर्तन किहम क्या हैं, हम दुनिया से कैसे जुड़ते हैं, हम कैसे आत्मविश्वास रखते हैं, हमें अपने हितों का पीछा करते हुए उसमें निर्विराम लगे रहना चाहिए। हमें उसमें बहुत स्पष्ट होना चाहिए। मुझे लगता है कि कई मायनों में, हमने राष्ट्रीय सुरक्षा मुद्दों सहित कुछ कठिन निर्णय लिए हैं, मैं कहूँगा कि यह सब हठधर्मिताओं को छोड़ने का हिस्सा हैं ।

हर्षवर्धन पन्त: धन्यवाद। और अब मैं दर्शकों को आमंत्रित करता हूँ। गुंजन का प्रश्न लेते हैं ।

गुंजन: नमस्कार,महोदय। आप से मेरा सवाल यह है कि भारत की सांस्कृतिक विरासत के विशिष्ट पहलू क्या हैं जिन्हें आप सोचते हैं कि दुनिया को हमसे सीखना चाहिए? और इस संबंध में हम किन रणनीतियों को तैयार कर रहे हैं?

हर्षवर्धन पंत: और विशाल वर्मा का प्रश्न।

विशाल वर्मा: महोदय, हमारे पश्चिमी मोर्चे पर, हमने अफगानिस्तान में बड़ा घटनाक्रम देखा है। और पिछले कुछ वर्षों में, नई दिल्ली, राष्ट्रों के वैश्विक समुदाय में पाकिस्तान को हाशिए पर लाने में काफी हद तक सफल रही है। इसलिए, जैसा कि हम भविष्य को देखते हैं, अगले कुछ वर्षों के लिए भारत-पाकिस्तान संबंधों के लिए इसका क्या अर्थ है और क्या उनके अस्तित्व के पहले 75 वर्षों की छाया संबंधों की आगे की राह को आकार देना जारी रखेगी?

विदेश मंत्री, डॉ. एस. जयशंकर: ये दो बहुत अलग प्रश्न हैं, लेकिन कुछ मायनों में, उनके उत्तर समान हैं। जब आप पूछते हैं, हमारी संस्कृति क्या है? हम इसे कैसे प्रस्तुत करते हैं? देखिए, हम एक पुरानी सभ्यता हैं, अब एक आधुनिक राज्य विश्व मंच पर बड़ी भूमिका निभा रहे हैं। हमारी विरासत और परंपराओं और संस्कृति में बहुत कुछ है, जो एक वैश्विक हिस्सा है, यह कई मायनों में दुनिया की विरासत का हिस्सा है। मैं आपको एक बहुत ही रोचक उदाहरण देता हूँ, जिसका उल्लेख वास्तव में प्रधान मंत्री ने संयुक्त राष्ट्र में किया था। लोकतंत्र को लेते हैं । आप जानते हैं, हम में से बहुत से लोगों को यह मनवाया गया है कि लोकतंत्र अनिवार्य रूप से एक पश्चिमी अवधारणा है। लेकिन हमारे अपने जीवन के बारे में सोचिए, हम भारत में, हम कितने बहुलवादी हैं, हमारी अलग-अलग भाषाएँ हैं, हमारी अलग-अलग आस्थाएँ हैं, हमारी अलग-अलग पहचानें हैं। उस तरह की विविधता ही स्वाभाविक रूप से लोकतंत्र बनाती है। कई अन्य देशों के विपरीत, हमने इस बात पर जोर नहीं दिया है कि एक राष्ट्र राज्य का मतलब है कि सभी को इस अर्थ में एक समान होना चाहिए।तो भारत का बहुलवाद, भारत की विविधता, जो वैसे, हमारी अपनी संस्कृति और हमारे अपने विश्वास में निहित है, जो मुझे लगता है, कई मायनों में, एक बहुत अच्छा उदाहरण है जिसे हम वैश्विक स्तर पर ला सकते हैं।

आपको बहुत विशिष्ट अभिव्यक्तियाँ मिल सकती हैं, उदाहरण के लिए, 2015 में, हमने संयुक्त राष्ट्र में अंतर्राष्ट्रीय योग दिवस को मनाने की पहल की थी। अब इसका कारण यह था कि योग परंपरा हमारे अंदर गहरी जड़ें जमा चुकी थी, लेकिन यह दुनिया भर में प्रचलित थी, यह एक ऐसी चीज थी जिसकी सभी ने सराहना की। अब, लोग चाहते हैं, अन्य देश अपनी परंपराओं के माध्यम से खुद को व्यक्त करने के लिए, एक वैश्विक संस्कृति की समृद्धि में जोड़ने के लिए, यदि आप चाहें तो आप इसे व्यंजनों में पा सकते हैं, इसे संगीत में खोज सकते हैं, आप इसे आज किसी भी प्रकार की रचनात्मकता में पा सकते हैं, यहाँ तक कि तकनीक में भी।

अब मुझे लगता है कि यही बात दूसरे प्रश्न के लिए भी समान है, कई मायनों में, पाकिस्तान के साथ हमारी बहुत सारी चुनौतियाँ हैं, जब आप कहते हैं, क्या हमारी नियति अगले 75 वर्षों के लिए भी उन्हीं पिछले 75 वर्षों से ही गुजरने की है?इसका बहुत कुछ स्पष्ट रूप से उनकी मानसिकता पर निर्भर करता है। क्योंकि हमारे बीच अंतर क्या है, कई मायनों में अंतर है, हम उत्तरोतर लोकतांत्रिक हो रहे हैं, औरआप जानते हैंउनका रिकॉर्ड क्या है। उनके पास एक तरह की कृत्रिम एकरूपता है, और वह भी टिक नहीं सकी क्योंकि बांग्लादेश पाकिस्तान से अलग हो गया। उनकी मानसिकता, आतंकवाद को राजकौशल के एक उपकरण के रूप में इस्तेमाल करने के लिए बहुत इच्छुक है, यह कुछ ऐसा है जिसे हम कभी स्वीकार नहीं करेंगे।इसलिए, जब बात आती है कि पश्चिम में क्या हो रहा है, तो मुझे लगता है कि हमारे लिए अपने विश्वासों पर खरा रहना महत्वपूर्ण है। हमारे दोस्त हैं, आपने अफगानिस्तान से शुरुआत की, मुझे लगता है, अफगान लोग जानते हैं कि भारत ने उनके लिए क्या किया है, हम किस तरह के दोस्त रहे हैं, मुझे यकीन है कि वे तुलना कर सकते हैं कि पाकिस्तान ने उनके लिए उसी अवधि में क्या किया है।और मुझे लगता है कि अंतर स्पष्ट हैं। और जहाँ तक पाकिस्तान के साथ हमारे संबंध हैं, हर कोई अपने पड़ोसियों के साथ दोस्ती ही करना चाहता है, लेकिन आप उन शर्तों पर दोस्त बनना चाहते हैं जिन्हें एक सभ्य दुनिया स्वीकार करेगी। आतंकवाद उन शर्तों में से एक नहीं है। तो, आप जानते हैं, पड़ोसियों को आपके साथ व्यापार करना चाहिए, पड़ोसियों को आपको कनेक्टिविटी देना चाहिए, पड़ोसियों को संपर्कों को बढ़ावा देना चाहिए, ताकि यात्राएँ बढ़ाई जाएँ । अब, यह सब इस पड़ोसी के साथ नहीं हुआ है। इसलिए, मुझे लगता है कि उनके पास एक महत्वपूर्ण विकल्प है कि क्या वे एक सामान्य पड़ोसी बनना चाहते हैं, हमारे लिए अगले 75 वर्षों में बहुत कुछ इस बात पर निर्भर करेगा कि वे क्या चुनते हैं।

हर्षवर्धन पंत: धन्यवाद महोदय, आपको सुनना और भारतीय विदेश नीति, भारत के उत्थान, भारत की वैश्विक आकांक्षाओं के बारे में आपको बात करते हुए सुनकर हमेशा खुशी होती है, जितना अधिक आत्मविश्वासी भारत बनेगा उतनी ही अधिक आत्मविश्वासी इसकी विदेश नीति उस दिशा में विकसित हो रही है। इसलिए, अन्य बहुत अधिक महत्वपूर्ण कामों से समय निकालकर यहाँ आने के लिए धन्यवाद। मुझे लगता है कि हम सभी ने आपके साथ बिताए इस समय का आनंद लिया और आपको शुभकामनाएँ। धन्यवाद। आपका बहुत बहुत धन्यवाद।

विदेश मंत्री, डॉ. एस. जयशंकर: धन्यवाद। वास्तव में मुझे भी आपके साथ बातचीत में आनंद आया। आपका बहुत बहुत धन्यवाद।

Comments
टिप्पणियाँ

टिप्पणी पोस्ट करें

  • नाम *
    ई - मेल *
  • आपकी टिप्पणी लिखें *
  • सत्यापन कोड * Verification Code